Bol Bindas || शक्की पति ने पत्नी को दी दर्दनाक मौत

0
259

पत्नी 8 महीने की थी, गर्भवती…..

विवेक चौबे, गढ़वा

 

गढ़वा : जब युवक व युवती की शादी होती है तो समाज का दस्तूर सहित 7 वचनों को निभाने के लिए पंडित द्वारा संकल्प कराया जाता है, जिससे वर-वधु का सम्बंध अटूट हो जाता है। हिन्दू धर्म के अनुसार यदि वर-वधु सात वचनों को नहीं निभा पाते हैं तो उन्हें मानव नहीं दानव का रूप समझा जाता है। ऐसी ही एक घटना प्रकाश में आई है कि एक पति दानव बन गया। पत्नी किसी गैर मर्द से बात करती थी, ऐसा ही उसके पति को शक था। जब उसने पूछताछ की तो पत्नी ने कहा कि मैं किसी अन्य व्यक्ति से बात नहीं करती हूं। अंत में शक्की पति ने अपनी ही पत्नी की हत्या कर दी। जबकि पत्नी के गर्भ में 8 महीने का बच्चा भी पल रहा था। हालांकि पति अपनी पत्नी पर हमेशा ही शक किया करता था। दोनों में आपसी ताल-मेल भी नहीं था। दोनों विवाद भी करते थे। पति नागपुर में मजदूरी कर अपने परिवार का पालन पोषण करता था। बीते मंगलवार को ही वह अपने घर पर आया था। गुरुवार की देर रात तकरीबन 11 बजे मसाला पीसने वाला पत्थर के लोढ़ा से सिर पर प्रहार करते हुए कूच-कूच कर अपनी पत्नी को मार डाला। साथ ही शव के पास पूरी रात बैठा रहा। यह घटना किसी के दिल को झकझोर कर रख देने वाली है। पति ने ऐसी दर्दनाक मौत अपनी पत्नी को दी कि सात फेरे लेने के साथ सभी सात वचनों को भुलाकर सात जन्मों का अटूट बंधन कुछ ही क्षणों में तोड़ दिया। यह घटना जिले के हरिहरपुर ओपी क्षेत्र अंतर्गत मझिगांवां गांव के नवडीहवा टोला की है। उक्त गांव निवासी- चंदन रजवार के पुत्र- अरूण रजवार अपनी 20 वर्षीया पत्नी- सीमा देवी पर हमेशा शक किया करता था। शक था कि सीमा किसी अन्य युवक से मोहब्बत करती है। घण्टों फोन पर बात किया करती है। इसी को लेकर अरुण सीमा से नाराज रहा करता था। शुक्रवार की अहले सुबह अरुण हरिहरपुर ओपी में पहुंच कर ओपी प्रभारी- शौकत खान को घटना की पूरी जानकारी देते हुए आत्मसमर्पण किया। इसके बाद प्रभारी- शौकत खान घटना स्थल पर अपने दलबल के साथ पहुंचे। ओपी प्रभारी ने मृतिका के परिजनों को घटना के सम्बंध में जानकारी दी। जानकारी पाकर बरडीहा थाना क्षेत्र अंतर्गत कोल्हुआ मझिगावां निवासी- मुरारी रजवार अर्थात मृतिका के पिता अपनी बेटी के घर पहुंच कर व हत्या की घटना जान कर ओपी प्रभारी को एक लिखित आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है। आवेदन में लिखा है कि मैं अपनी पुत्री सीमा देवी की शादी वर्ष 2019 के मई महीने में अरुण के साथ किया था। शादी के बाद हर समय अरुण के द्वारा 50 हजार रुपये की मांग दहेज के रुप में किया करता था। नहीं देने पर धमकी भी दी जाती थी। मैं मजदूरी कर अपना भरणपोषण किसी प्रकार से ही कर पाता हूं। गरीबी के कारण इतनी बड़ी रकम देने से असमर्थ था। वहीं ओपी प्रभारी- शौकत खान ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल गढ़वा भेज दिया। साथ ही उन्होंने बताया कि न्यायिक प्रक्रिया जारी है।

Please follow and like us: