Bol Bindas || नजर “किसकी” लगी

0
60

छः महीने के भीतर घटी, दो भयावह घटना…..

विवेक चौबे, गढ़वा

 

गढ़वा : नजर लगने का अर्थ है अप्रिय घटना अर्थात कोई अनहोनी हो जाना। इसी प्रकार की यह खबर है। एक गांव को शायद किसी की नजर ही लग गयी हो। ऐसा इसलिए कहना है कि छः महीने के भीतर ही भयावह दो घटना घटी। पहली बार 16 मई की घटना यह थी की नदी में नहाने के क्रम में पानी में डूबने से 7 युवकों की मौत हो गयी थी। उक्त सातों मृतक एक ही गांव के एक ही टोले के थे। सातों का शव एक साथ व एक ही कतार में जलते देख वहां की धरती भी उक्त नदी को कोंस रही थी। वहीं दूसरी घटना है कि 4 मजदूरों की मौत हो गयी। चारों युवक भी उसी गांव के थे, जहां पहली घटना घटी थी। इस प्रकार एक ही गांव में एक साथ कई लोगों की लाश निकलना अति हृदय विदारक घटना है। इसीलिए तो कहना है कि बुरी नजर किसकी लग गयी की एक ही गांव में बार-बार इसी प्रकार की हृदय विदारक घटना घट रही है। प्रशाशनिक प्रक्रिया के तहत पोस्टमार्टम करा कर शवों को उनके घर पर लाया गया। शव देखते ही परिजन रोने-बिलखने लगे। ऐसा प्रतीत हो रहा था मानो वातावरण भी उनके साथ विलाप करने लगा हो। यह घटना कांडी थाना क्षेत्र अंतर्गत डुमरसोता गांव की है। ग्रामीणों की सूझ-बूझ से उक्त गांव स्थित सोन नदी के तट पर अंतिम दाह-संस्कार गुरुवार को किया गया। ज्ञात हो कि उक्त गांव के चार मजदूरों की मौत 14 अक्टूबर को एक शौचालय के सेटरिंग खोलने के दौरान दम घुटने से हो गयी थी।

Please follow and like us: